Homeहलचलवकील प्रशांत भूषण ने सज़ा के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की

वकील प्रशांत भूषण ने सज़ा के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की

नई दिल्ली : वकील प्रशांत भूषण ने अदालत की अवमानना मामले में उच्चतम न्यायालय के 31 अगस्त के फैसले पर पुनर्विचार के लिये शीर्ष अदालत में नयी याचिका दायर की है। उन्होंने न्यायपालिका के बारे में कथित दो अपमानजनक ट्वीट किये थे, जिसपर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सज़ा दी थी। इस फैसले में न्यायालय ने भूषण को एक रूपये का सांकेतिक जुर्माना अदा करने की सज़ा दी थी। जुर्माना अदा न करने पर तीन महीने जेल की सजा काटने की और उनकी वकालत पर तीन साल की रोक का आदेश दिया था। वकील प्रशांत भूषण जुर्माने का एक रूपया 14 सितंबर को शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री में जमा करा चुके हैं।

वकील प्रशांत भूषण ने अवमानना मामले में दो पुनर्विचार याचिकाएं दाखिल कीं

उन्होंने अवमानना मामले में दो अलग पुनर्विचार याचिकाएं दायर की हैं। पहली पुनर्विचार याचिका 14 सितंबर को दाखिल की गयी। इसमें उन्होंने अदालत की अवमानना का दोषी ठहराये जाने के 14 अगस्त के फैसले पर पुनर्विचार का अनुरोध किया है। दूसरी याचिका में उन्होंने एक रूपए का जुर्माना लगाने के 31 अगस्त के आदेश पर पुनर्विचार का अनुरोध किया है।

वकील कामिनी जायसवाल के माध्यम से दाखिल दूसरी पुनर्विचार याचिका में भूषण ने मामले पर एक खुली अदालत में मौखिक सुनवाई की मांग की।

उन्होंने फैसले पर पुनर्विचार करने और नये सिरे से सुनवाई करने का अनुरोध करते हुए कहा कि उन्होंने जो कानून के प्रश्न उठाये हैं उन्हें यथोचित संख्या वाली बड़ी पीठ को भेजा जाना चाहिए।

याचिका में कहा गया है कि भूषण को एक वकील द्वारा दाखिल उस अवमानन याचिका की प्रति मुहैया नहीं कराई गई जिस पर शीर्ष अदालत ने संज्ञान लिया था।

शीर्ष अदालत के फैसले का जिक्र करते हुए पुनर्विचार याचिका में कहा गया कि अदालत ने वकील प्रशांत भूषण को कभी संकेत नहीं दिया कि वह उन्हें वकालत करने से रोकने पर विचार कर रही है।

यह भी पढ़ें – हाथरस में सामूहिक बलात्कार पीड़िता के परिजनों से मिलेंगे राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी वाड्रा

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular News

Recent Comments

English Hindi