Homeमजबूर भारतसमाचार एजेंसी पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन रद्द, पढ़िए क्यों

समाचार एजेंसी पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन रद्द, पढ़िए क्यों

दिल्ली। प्रसार भारती ने बीते 15 अक्टूबर को समाचार एजेंसी पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन रद्द कर दिया है। सीमा पर हुए गतिरोध के बीच पीटीआई द्वारा जून महीने में भारत में चीन के राजदूत का इंटरव्यू किया गया था। इस पर सार्वजनिक प्रसारणकर्ता प्रसार भारती ने एजेंसी की कवरेज को ‘देशविरोधी’ क़रार देते हुए उसके साथ सभी संबंध तोड़ने की धमकी दी थी।

पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन रद्द करना बदले की कार्रवाई – एडिटर्स गिल्ड

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने प्रसार भारती द्वारा समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) का सब्सक्रिप्शन रद्द करने के फैसले की आलोचना की है।

‘जिस तरह से सरकार और उनकी एजेंसियों ने हाल ही में मीडिया के साथ बदले की भावना से कार्रवाई की है, उससे वह निराश और चिंतित हैं।’ – एडिटर्स गिल्ड

एडिटर्स गिल्ड का यह बयान इस हफ्ते राष्ट्रीय सार्वजनिक प्रसारक प्रसार भारती द्वारा समाचार एजेंसियों पीटीआई और यूएनआई का सब्सक्रिप्शन रद्द करने के बाद आया है।

इसके साथ ही एडिटर्स गिल्ड ने हाल ही में ओडिशा के एक टीवी पत्रकार रमेश रथ की गिरफ्तारी का भी उल्लेख किया, जिन्हें एक अश्लील वीडियो सर्कुलेट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

पत्रकार के चैनल ओटीवी का कहना है कि ओडिशा की बीजेडी सरकार को बेनकाब करने के लिए पत्रकार के काम की वजह से उन्हें निशाना बनाने के लिए साजिश रची गई। बयान में कहा गया कि एडिटर्स गिल्ड का मानना है कि इस तरह की कार्रवाइयाँ मीडिया संस्थानों के स्वतंत्र तरीके से कामकाज करने के लिए खतरा है और इसे कमजोर करती हैं।

हालांकि, प्रसार भारती ने कारोबारी विचार-विमर्श के आधार पर यूएनआई और पीटीआई के सब्सक्रिप्शन रद्द करने के फैसले को न्यायोचत ठहराया है।

पीटीआई ने लिया था चीन के राजदूत का इंटरव्यू

इस साल जून महीने में चीन के साथ सीमा पर हुए गतिरोध के बीच पीटीआई ने भारत में चीन के राजदूत का इंटरव्यू किया था। जिसे सार्वजनिक प्रसारणकर्ता प्रसार भारती ने एजेंसी की कवरेज को ‘देशविरोधी’ करार दिया था।

इस साल जून महीने में प्रसार भारती के वरिष्ठ अधिकारी ने लद्दाख मामले को लेकर पीटीआई की कवरेज की निंदा कर उसे देशद्रोही करार दिया था। उस समय प्रसार भारती समाचार सेवा एवं डिजिटल प्लेटफॉर्म के प्रमुख समीर कुमार ने पीटीआई के मुख्य विपणन अधिकारी को पत्र लिखा था। पत्र में उन्होंने एजेंसी की न्यूज़ कवरेज को राष्ट्रहित के लिए हानिकारक और भारत की क्षेत्रीय अखंडता को कमतर करने वाला बताया था।

पत्र में कहा गया था, ‘यह उल्लेख किया जाता है कि पीटीआई को समय-समय पर कई बार उनकी संपादकीय खामियों के बारे में बताया गया। जिस वजह से गलत खबरों का प्रसार हुआ और इससे जनहित को हानि पहुंची।’

पीटीआई देशभर में संवाददाताओं और फोटोग्राफरों का एक बड़ा नेटवर्क है। इसकी सेवाओं को देश में सभी प्रमुख समाचार संगठनों के लिए अनिवार्य समझा जाता है। प्रसार भारती दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो का संचालन करता है और ये दोनों प्रसारक लंबे समय से पीटीआई की वायर सेवाओं के सब्सक्राइबर रहे हैं।

यह भी पढ़ें – गुपकार घोषणा के मुताबिक जम्मू-कश्मीर की मुख्यधारा के नेता एक साथ आए, पढ़िये यह है क्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular News

Recent Comments

English Hindi