Homeमजबूर भारतभाजपा के नफरत भरे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की 6 सालों में ठोस उपलब्धि....

भाजपा के नफरत भरे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की 6 सालों में ठोस उपलब्धि. बांग्लादेश भारत को पछाड़ने को तैयार है- राहुल गाँधी

एक ताज़ा रिपोर्ट में, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार प्रति व्यक्ति जीडीपी के मामले में अब बांग्लादेश भी भारत को पछाड़ने के करीब है. आइएमएफ की इस रिपोर्ट को आधार बना कर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर तंज कसा है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, उन्होंने लिखा –

“भाजपा के नफरत भरे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की 6 सालों में ठोस उपलब्धि. बांग्लादेश भारत को पछाड़ने को तैयार है.”

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक (WEO) के आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2020 में भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी 10.5 प्रतिशत घटकर 1,877 डॉलर रहने की उम्मीद है जबकि बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति जीडीपी 4 फीसदी बढ़कर 1,888 डॉलर होने की उम्मीद है. भारत की वर्तमान प्रति व्यक्ति जीडीपी पिछले चार वर्षों में सबसे कम है.

दोनों देशों की इस जीडीपी के आंकड़े मौजूदा कीमतों पर आधारित हैं. इसके आधार पर हमारा देश सम्पूर्ण दक्षिण एशिया में तीसरा सबसे गरीब देश है. प्रति व्यक्ति डीजीपी के मामले में बस पाकिस्तान और नेपाल ही हमसे पीछे हैं. यहाँ तक कि भूटान, श्रीलंका और मालदीव जैसे छोटे देश भी भारत से आगे हैं.

वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक के आंकड़ों के अनुसार, दक्षिण एशिया जिन दो देशों पर कोरोना संक्रमण का सबसे बुरा असर श्रीलंका और भारत पर पड़ने वाला है. जबकि नेपाल और भूटान की अर्थव्यवस्था में विकास की उम्मीद है.

वर्ष 2021 की भविष्यवाणी के आधार पर आईएमएफ की रिपोर्ट में भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी बांग्लादेश से बहुत थोड़े से अंतर के साथ बेहतर रह सकती है. 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में संभवत: 8.8 प्रतिशत की बढ़त की उम्मीद जतायी गई है. वैसे ही चीन में भी विकास दर में 8.2 प्रतिशत की बढ़त का अनुमान जाहिर किया गया है.

लेकिन, यह बेहद चिंतनीय है कि भारत जैसे देश का मुकाबला अब क्या बांग्लादेश, नेपाल और भूटान जैसे देशों के साथ ही रह जायेगा?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular News

Recent Comments

English Hindi