Homeहलचलअगर लड़की दलित ना होती तो ऐसा नहीं होता - योगेन्द्र यादव

अगर लड़की दलित ना होती तो ऐसा नहीं होता – योगेन्द्र यादव

हाथरस में दलित लड़की के साथ हुए रेप को लेकर दिल्ली के इंडिया गेट पर होने वाला विरोध प्रदर्शन जंतर मंतर पर हुआ जहां नागरिक समाज और कई राजनेताओं ने हाथरस की घटना के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त प्रदर्शन किया. दरअसल प्रदर्शन पहले इंडिया गेट पर होने वाला था लेकिन गुरुवार को दिल्ली पुलिस की ओर से कहा गया कि इंडिया गेट के आस-पास धारा 144 लागू है. यहां पर किसी भी सभा की इजाजत नहीं है. लिहाज़ा हाथरस मामले को लेकर प्रदर्शन करने पहुंचे लोग जंतर-मंतर पर शाम पांच बजे से इक्कठे हो गए और जोरदार नारेबाजी के साथ एक स्वर में ‘ गुड़िया ‘ के लिए इंसाफ की गुहार लगाई गई.

ये भी पढ़ें :मीडिया वालों और विपक्षी नेताओं को पीड़िता के परिवार से मिलने दे सीएम योगी आदित्यनाथ: उमा भारती

जंतर-मंतर पर हुए प्रदर्शन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई राजनीतिक दलों के नेता पहुंचे .सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और सीपीआई नेता डी राजा ने लोगों को संबोधित किया. आम आदमी पार्टी (आप) के नेता सौरभ भारद्वाज, जिग्नेश मेवाणी और एक्ट्रेस स्वरा भास्कर भी शामिल हुए.

स्वराज इंडिया पार्टी के अध्यक्ष और एक्टिविस्ट योगेन्द्र यादव भी प्रदर्शन में शामिल हुए और उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में हर रोज़ अपराध पर अपराध हो रहा है. एक गांठ पर नई गांठ लगती जा रही है. उस लड़की के साथ गैंगरेप हुआ और लाश की हिन्दू रीतिरिवाज के विरूद्ध जला दिया जाता है, मां अपनी बेटी का चेहरा तक अंत में नहीं देख पाई, बाप से झूठा स्टेटमेंट लिखवाया जाता है,डीएम घर बैठ कर धमकाता है, भाई को कहना पड़ता है हमे धमकाया जा रहा है, मीडिया पर पाबंदी है। आखिर ये हो क्या रहा है ?

यादव कहते हैं कि अगर ये लड़की दलित ना होती तो ऐसा नहीं होता. गैंगरेप या हत्या हो सकती है लेकिन उसके बाद जो कुछ हो रहा है वो सिर्फ दलित के साथ ही हो सकता है, इसलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देना चाहिए.

जंतर मंतर पर करीब पांच बजे से प्रदर्शनकारियों का भारी जनसैलाब उमड़ गया और कोरोनावायरस से जुड़ी सोशल डिस्टेंस की गाइडलाइन तार तार हो गईं. इसे लेकर योगेन्द्र यादव कहते हैं कि कोरोनावायरस महामारी को लोग भूल गए हैं. संकट भूल कर सभी आवेश में आ गए हैं क्योंकि मन दुखी और विचलित है. बीजेपी इस क्रोध से बचने के लिए कोरोना वायरस का हवाला देकर भीड़ जुटने से रोकना चाहती है लेकिन बीजेपी को यह ध्यान रखना चाहिए कि बीजेपी वालों को भी कोरोना हो सकता है, सिर्फ विपक्ष पर इसका डर नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular News

Recent Comments

English Hindi